Council of Ministers and Prime Minister

मंत्री परिषद एवं प्रधानमंत्री(Council of Ministers and Prime Minister)

मंत्री परिषद एवं प्रधानमंत्री(Council of Ministers and Prime Minister) : मित्रों मैं आशा करता हूं कि आप सभी लोग अच्छे होंगे | क्योंकि यह समय बहुत ही कठिन| है कोरोना की वजह से पर हम सभी को इसके साथ डटकर मुकाबला करना है | और इसी के साथ हमें अपनी परीक्षाओं की तैयारी को भी फोकस करना है | क्योंकि यह कठिन समय 1 दिन चला जाएगा परंतु अगर हम अपनी तैयारी से हट जाते हैं तो हमारे जीवन में हमेशा कठिन समय बना रहेगा  |इसीलिए दोस्तों सब कुछ भुला कर सिर्फ अपनी तैयारी पर ध्यान दें | इस पोस्ट में मैं आपको एक विस्तृत जानकारी दूंगा – मंत्री परिषद एवं प्रधानमंत्री(Council of Ministers and Prime Minister) के बारे में मंत्रिपरिषद क्या है ? प्रधानमंत्री क्या है  ? प्रधानमंत्री की नियुक्ति कैसे होती है ? मंत्रिपरिषद की नियुक्ति कैसे होती है ? कैबिनेट मंत्री क्या है ? राज्य मंत्री क्या है ? स्वतंत्र प्रभार राज्यमंत्री क्या है “ संवैधानिक पदाधिकारियों का वेतन संसदीय प्रणाली संशोधन उप प्रधानमंत्री इन्हीं सभी मुख्य बिंदुओं पर हम आप से चर्चा करेंगे इस पोस्ट के माध्यम से “मंत्री परिषद एवं प्रधानमंत्री(Council of Ministers and Prime Minister)” |

मंत्री परिषद एवं प्रधानमंत्री : मंत्री परिषद एवं प्रधानमंत्री(Council of Ministers and Prime Minister)

  • संविधान के अनुच्छेद 74 में उपबंध है |  कि राष्ट्रपति को उसके कृत्यों का निर्वाह करने में सहायता एवं सलाह देने के लिए एक मंत्री परिषद होगी , जिसका प्रधान प्रधानमंत्री होगा और राष्ट्रपति उसी की सलाह पर कार्य करेगा |
  • मंत्री किसी भी सदन राज्यसभा अथवा लोकसभा के सदस्यों में से चुना जाता है |
  • मंत्री दोनों सदनों लोकसभा तथा राज्यसभा में बोल सकता है तथा कार्यवाही में भी भाग ले सकता है लेकिन वह मतदान में भाग नहीं ले सकता जिसका वह सदस्य नहीं होता है |
  • अर्थात वह केवल उसी मतदान में मत दे सकता है  जिसका सदस्य होता है |
  • ऐसा व्यक्ति भी मंत्री नियुक्त किया जा सकता है | जो किसी भी सदन का सदस्य नहीं होता उसको मंत्री नियुक्त किया जा सकता है|  परंतु नियुक्ति की 6 माह के अंदर उसको किसी भी सदन का सदस्य होना जरूरी होता है |
  • संवैधानिक उपबंध के अनुसार मंत्रिपरिषद सामूहिक रूप से लोकसभा के प्रति उत्तरदायित्व होता है अनुच्छेद 75(3) |

 प्रधानमंत्री – Council of Ministers and Prime Minister

  • अनुच्छेद 75 में राष्ट्रपति द्वारा प्रधानमंत्री की नियुक्ति तथा अनुच्छेद 74 – में वर्णित मंत्रिपरिषद की नियुक्ति PM की सलाह पर राष्ट्रपति द्वारा किए जाने का उल्लेख है |
  • ब्रिटेन की भांति भारत में प्रधानमंत्री निरंकुश नहीं है किंतु विधायिका एवं कार्यपालिका दोनों में प्रभावशाली होने के कारण विशिष्ट अवश्य है |
  • प्रधानमंत्री संसद में किसी भी सदन का सदस्य हो सकता है किंतु उसे बहुमत लोकसभा में ही सिद्ध करना पड़ता है |
  • एवं लोकसभा में अविश्वास प्रस्ताव के द्वारा उसे पद से हटाया जाता है यही कारण है कि प्रधानमंत्री का कार्यकाल लोकसभा के कार्यकाल पर निर्भर होता है |
  • प्रधानमंत्री संघ के समस्त कार्यपालिका शक्ति का वास्तविक उपयोग करते हुए मंत्रिपरिषद का नेतृत्व करता है| तथा संविधान में निर्देशित (कार्य, कर्तव्य ,शांति, व्यवस्था, विकास ,कानून निर्मा)ण का निर्वाह करता है |
  • सरकार की केंद्रीय दूरी के रूप में प्रधानमंत्री मंत्री परिषद की अध्यक्षता करता है तथा राष्ट्रपति को नीतिगत निर्णयों पर सलाह देता है |
  • सामान्यतः राष्ट्रपति मंत्री परिषद के अध्यक्ष प्रधानमंत्री द्वारा दी गई सलाह के अनुसार (राष्ट्रपति सलाह को पूर्ण विचार हेतु मंत्रिपरिषद के समक्ष भेज सकता है) कार्य करता है |
  • ब्रिटेन के विपरीत भारत में स्थापित परंपरा है (चौधरी चरण सिंह का केस) कि विश्वास मत सिद्ध कर सकने वाले प्रधानमंत्री की सलाह को मानने से राष्ट्रपति इंकार कर सकता है |
  • इस प्रकार अपवादो को छोड़कर राष्ट्रपति के समस्त निर्णय मंत्रिपरिषद का निर्णय समझा जाता है |
  • अनुच्छेद 78 के अनुसार प्रधानमंत्री का यह कर्तव्य है कि संघ के समस्त नीतिगत निर्णय एवं कार्यों से समय-समय पर राष्ट्रपति को सूचित करें |
  • प्रधानमंत्री नीति आयोग का पदेन अध्यक्ष भी होता है |यह दो बार शपथ लेता है संसदीय प्रणाली में यह आवश्यक है |कि निर्वाचित सीटों में (16वीं लोकसभा में 543 निर्वाचित)  50 %+1 लोकसभा में सरकार बनाने की बनाने हेतु (चाहे एक दल का गठबंधन का) |
Council of Ministers and Prime Minister(मंत्री परिषद एवं प्रधानमंत्री)
Council of Ministers and Prime Minister(मंत्री परिषद एवं प्रधानमंत्री)
Must read :–
राजभाषा(Official Language)
मूल कर्तव्य (Core Duties)
महत्वपूर्ण संविधान संशोधन(Important Constitution Amendment)
Vice-President -(उपराष्ट्रपति )
भारतीय संविधान(Indian Constitution)
संविधान के स्रोत : प्रकृति एवं विशेषताएं
संविधान की प्रस्तावना(Preamble to the Constitution)
नागरिकता(Citizenship)
मूल अधिकार (Fundamental Rights)
Directive Principles of Policy (Part -4, Articles 36 – 51)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *