QS वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग में भारत का प्रदर्शन :

हाल ही में लन्दन स्थित QS फर्म द्वारा दुनिया भर के संस्थानों को लेकर 6 मापदंडो के आधार पर QS वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग 2021 जारी की गयी |

गौरतलब है की इन 6 मापदंडो में 2 (अन्तर्राष्ट्रीय फैकल्टी व छात्रों का अनुपात)में भारत ने शून्य अंक प्राप्त किया |

इस रैंकिंग में भारत के मात्र 21 संस्थान ही टॉप 1000 में जगह बना पाए व जिन संस्थानों ने जगह बनायीं है उनका प्रदर्शन गत वर्ष की अपेक्षा कमजोर हुआ है. (गत वर्ष यह संख्या 24 थी ) |

         ध्यातव्य है कि मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने QS रैंकिंग पर सवाल उठाते हुए

कहा कि पुरानी धारणा के आधार पर भारतीय संस्थानों को रैंकिंग ठीक नहीं दी जाती. हालाकि श्री निशंक के इस नजरिये को पूर्णतः झुठलाया भी नहीं जा सकता परन्तु इस बात से भी मना नहीं किया जा सकता कि भारतीय शिक्षा को अपने कुछ पहलुओं जैसे नवाचार, रोजगारपरक शिक्षा, अंतर्राष्ट्रीय फैकल्टी व छात्रों का अनुपात जैसे क्षेत्रो में ध्यान देने की आवश्यकता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *